बुधवार, 26 फ़रवरी 2020

Tagged Under: , , ,

आयुष्मान भारत का लोग उठा रहे लाभ

लेखक: अपना समाचार दिनांक: फ़रवरी 26, 2020
  • शेयर करे
  • आयुष्मान भारत का लोग उठा रहे लाभ
    -  जिले में अब तक 113918 से अधिक  लोगों को मिला गोल्डन कार्ड
    -  5 लाख रुपये प्रतिवर्ष तक का इलाज होता है मुफ्त
    -  प्राइवेट अस्पतालों को भी किया जाएगा सूचीबद्ध

    पूर्णियाँ : प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत जिले में गोल्डन कार्ड का उपयोग करने वालो की संख्या में इजाफा हुआ है. अब लोग न केवल इस योजना के बारे में जान रहे हैं बल्कि इसका भरपूर लाभ भी उठा रहे हैं. लोग सभी सरकारी अस्पतालों के अलावा अब चिन्हित प्राइवेट अस्पतालों में भी अपना इलाज करवा सकते हैं. इस योजना के तहत आर्थिक रूप से कमजोर प्रत्येक परिवार को 5 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जाता है. 

    जिले के 1.13 लाख लोगों का बना गोल्डन कार्ड :
    आयुष्मान भारत के रिजीनल कोऑर्डिनेटर वेंकटेश पांडे ने बताया पूर्णियाँ जिले में कुल 62944 परिवारों के 113918 लोगों का इस योजना के अंतर्गत गोल्डन कार्ड बनवाया जा चुका है.  जिले में कुल 4.02 लाख परिवार के 21.75 लाख लोगों का गोल्डेन कार्ड दिया जाना है, जिसपर तेजी से काम किया जा रहा है. इसके लिए पंचायत स्तर पर कार्यपालक सहायक कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया गया है. अब लोग अपने पंचायतों में ही गोल्डन कार्ड बनवा सकते हैं.

    प्राइवेट अस्पतालों को भी किया जाएगा सूचीबद्ध: 
    आयुष्मान भारत के तहत जिले के सभी सरकारी अस्पतालों में तो मुफ्त इलाज होता ही है पर अब प्राइवेट अस्पतालों को भी सूचीबद्ध करने की प्रक्रिया चल रही है, जहां गोल्डन कार्ड लाभार्थी अपना इलाज करवा सकते हैं. 

    आयुष्मान भारत योजना के तहत कई रोगों का फ्री इलाज:
    आयुष्मान भारत योजना के तहत हड्डी, ऑर्थो, बर्न, नसबंदी, प्रसव, नवजात शिशु, इमरजेंसी रूम पैकेज, जानवर के काटने पर इलाज, शरीर के अंग के टूटने पर प्लास्टर, फूड प्वाइजनिंग, हाई फीवर का इस टीनएज, नवजात शिशु, जनरल सर्जरी, जनरल मेडिसिन आदि के मुफ़्त ईलाज का प्रावधान है.

    योजना सम्बंधित विशेष जानकारी :

    प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत लाभार्थी परिवार पैनल में शामिल सरकारी या निजी अस्पतालों में प्रति वर्ष 5 लाख रुपए तक कैशलेस इलाज करा सकते हैं. योजना का लाभ उठाने के लिए उम्र की बाध्यता एवं परिवार के आकार को लेकर कोई बंदिश नहीं है. योजना को संचालित करने वाली नेशनल हेल्थ एजेंसी ने एक वेबसाइट और हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है. इसके जरिये लाभार्थी यह जान सकते हैं कि उनका नाम लिस्ट में शामिल है या नहीं. लिस्ट में नाम जांचने के लिए mera.pmjay.gov.in वेबसाइट देख सकते हैं या हेल्पलाइन नंबर 14555 पर कॉल कर जानकारी ली जा सकती है. गोल्डेन कार्ड बनवाने के लिए लाभुकों को आधार कार्ड, राशन कार्ड या पीएम लेटर से कोई एक दस्तावेज लगाना अनिवार्य है.

    संवादक: अमन
    विवरण: आयुष्मान भारत का लोग उठा रहे लाभ - जिले में अब तक 113918 से अधिक लोगों को मिला गोल्डन कार्ड - 5 लाख रुपये प्रतिवर्ष तक का इलाज होता है मुफ्त - प्राइवेट अस्पतालों को भी किया जाएगा सूचीबद्ध

    0 टिप्पणियाँ:

    टिप्पणी पोस्ट करें