गुरुवार, 20 फ़रवरी 2020

Tagged Under: ,

चंपानगर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में लोगों को मिल रही बेहतर सुविधाएं

लेखक: अपना समाचार दिनांक: फ़रवरी 20, 2020
  • शेयर करे

  • चंपानगर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में लोगों को मिल रही बेहतर सुविधाएं

    - इलाज के लिए किसी को नहीं जाना पड़ता बाहर
    - सभी प्रकार के जांच की सुविधा भी उपलब्ध
    - गैर संचारी रोगियों की कि जा रही स्क्रीनिंग

    पूर्णियाँ : पहले इलाज के लिए हमें पूर्णियाँ सदर अस्पताल जाना पड़ता था. वहां काफी भीड़ भी होती थी व इलाज करा कर वापस आने तक पूरा दिन खत्म हो जाता था. अब यहां अस्पताल खुलने से समय की बहुत बचत होती है. यहाँ हर तरह की बीमारी का इलाज हो जाता है. यहां जांच की सुविधा भी उपलब्ध है. इससे यहां आसपास के लोगों को काफी राहत मिलती है. इसके अलावा हमें सरकार द्वारा दी जा रही सरकारी योजनाओं की भी जानकारी मिल जाती है, जिसका हम लाभ उठाते हैं." यह बातें केनगर प्रखंड स्थित चंपानगर हेल्थ एंड वैलनेस सेन्टर अस्पताल में ईलाज कराने आई जुलेखा खातून ने बताया. 
    जुलेखा खातून की तरह कई अन्य स्थानीय लोगों के लिए केनगर प्रखंड स्थित चंपानगर हेल्थ एंड वैलनेस सेन्टर अस्पताल एक वरदान की तरह साबित हो रहा है. प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के अलावा गांव स्तर पर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खोले गए हैं जिसे हेल्थ एंड वैलनेस सेन्टर भी कहा जाता है. यहां सभी प्रकार की इलाज व जांच की सुविधाएं उपलब्ध करायी गयी है. इससे गांव के लोगों को शहर के अस्पताल में नहीं जाना पड़ता है व प्राइवेट अस्पतालों के चक्कर भी नहीं काटने पड़ते हैं. सरकार के इसी उद्देश्य को जिले के केनगर प्रखंड स्थित चंपानगर हेल्थ एंड वैलनेस सेन्टर सार्थक साबित कर रहा है. यहां लोगों का न केवल समुचित इलाज किया जाता है बल्कि उनकी जांच कर उन्हें दवाइयां भी यहीं उपलब्ध कराई जाती है.

    सभी तरह की जांच सुविधा व दवाओं की है व्यवस्था :
    हेल्थ एंड वैलनेस सेन्टर के डॉ शमीम आलम ने बताया कि अस्पताल में हर प्रकार की जांच सुविधा उपलब्ध है. यहां ब्लड, सुगर, बीपी, हेमोग्लोबिन, यूरिन, एचआईवी, टीबी, कोलेस्ट्रॉल इत्यादि कुल 30 से ज्यादा प्रकार की जांच सुविधाएं उपलब्ध है. ये सभी प्रकार के जांच बिल्कुल मुफ्त में किया जाता है. इसके अलावा सबंधित बीमारियों के लिए सभी प्रकार की दवाइयां भी दी जाती है. उन दवाओं का किस प्रकार उपयोग किया जाए इसका भी परामर्श अस्पताल में आने वाले सभी लोगों को बताया जाता है. गैर संचारी रोगों से पीड़ित 1000 से अधिक  मरीजों की जांच इस केंद्र हो चुकी है.  
    संस्थागत प्रसव के लिए लोगों का बढ़ा रुझान :
    एएनएम सुषमा प्रिया ने बताया कि अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के खुलने से लोगों का संस्थागत प्रसव के प्रति भी रुझान बढ़ने लगी है. पहले लोग अस्पताल से दूरी के कारण घर में ही महिलाओं के सहयोग से प्रसव करा लेते थे, पर अब लोगो प्रसव के लिए अस्पताल आने लगे हैं. यहां महिलाओं के लिए प्रसव कक्ष में सभी प्रकार की सुविधाएं मुहैया कराई गई है. अस्पताल में प्रसव होने से माता और बच्चे न सिर्फ स्वस्थ होते हैं बल्कि जन्म के बाद सभी प्रकार की दवाएं और टीकाकरण भी आसानी से हो जाता है. अस्पताल में हमेशा एएनएम उपस्थित होती हैं जिससे लोग 7 दिन 24 घंटे सुविधाओं का लाभ ले सकते हैं. उन्होंने बताया पिछले कुछ महीनों से संस्थागत प्रसव की संख्या औसतन 100 से ज्यादा का रहा है. केअर इंडिया के ब्लॉक मैनेजर शुभम श्रीवास्तव नियमित तौर से अस्पताल का दौरा कर उपस्थित व्यवस्था का अपडेट भी लेते रहते हैं. उन्होंने कहा इस हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर में समुचित व्यवस्था उपलब्ध कराना उनकी प्रमुख प्राथमिकताओं में है.

    संवादक: अमन
    विवरण: पहले इलाज के लिए हमें पूर्णियाँ सदर अस्पताल जाना पड़ता था. वहां काफी भीड़ भी होती थी व इलाज करा कर वापस आने तक पूरा दिन खत्म हो जाता था. अब यहां अस्पताल खुलने से समय की बहुत बचत होती है. यहाँ हर तरह की बीमारी का इलाज हो जाता है. यहां जांच की सुविधा भी उपलब्ध है

    0 टिप्पणियाँ:

    टिप्पणी पोस्ट करें