रविवार, 2 फ़रवरी 2020

Tagged Under: , ,

तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत दिया गया एक दिवसीय प्रशिक्षण

लेखक: अपना समाचार दिनांक: फ़रवरी 02, 2020
  • शेयर करे
  • तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत दिया गया एक दिवसीय प्रशिक्षण
    - बच्चों में तम्बाकू सेवन रोकने के लिए स्कूलों में जागरूकता फैलाएगी आरबीएसके टीम
    - प्रशिक्षण में कोरोना वायरस के सम्बंध में भी दी गई जानकारी
    - बाहर से आने वाले लोगों पर एएनएम रखेंगी नज़र

    पूर्णियाँ : तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत जिला प्रतिरक्षण कार्यालय में तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम ( कोटपा) की जानकारी के लिए जिले के सभी चिकित्सा अधिकारियों एवं एएनएम को एक दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया. इसमे सभी को तम्बाकू से होने वाले रोगों एवं बच्चों में तम्बाकू सेवन की बढ़ती संख्या को रोकने की जानकारी दी गई. इसके साथ ही कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप से बचने और क्षेत्र में इसकी जागरूकता फैलाने की भी जानकारी दी गई. 

    स्कूली बच्चों में तम्बाकू सेवन रोकने पर विशेष जोर :
    आरबीएसके के जिला समन्वयक डॉ आर पी सिंह ने बताया कि तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम जिसे कोटपा कहते हैं कि तहत बच्चों में तम्बाकू सेवन रोकने के लिए आरबीएसके द्वारा एक टीम बनाई गई है जो जिले के सभी विद्यालयों, आंगनवाड़ी केन्द्रों में जाकर वहाँ के बच्चों को तम्बाकू के दुष्प्रभाव की जानकारी देगी. आज के समय बहुत से बच्चे तम्बाकू का बहुत सेवन करते हुए पाए जाते हैं जो आने वाली पीढ़ी के लिए खतरा है, इसलिए टीम सभी बच्चों को इससे होने वाले रोगो की जानकारी देंगी. इसके अलावा सार्वजनिक क्षेत्र में तम्बाकू सेवन रोकने हेतु कानूनी जानकारी व जुर्माना की भी टीम बच्चों को जानकारी देगी.
    तम्बाकू नियंत्रण के लिए खुद से शुरुआत करने पर दिया गया जोर :
    प्रशिक्षण के दौरान एसीएमओ डॉ एस के वर्मा ने कहा कि तम्बाकू नियंत्रण की शुरुआत सभी चिकित्सा अधिकारियों को खुद से या अपने आस पास से करनी चाहिए. जब आप खुद इसके बारे में जागरूक रहेंगे तो लोगों को जागरूक करना आसान हो जाएगा. लोग आपकी बातें तभी गंभीरता से लेंगे जब आप खुद उसे फॉलो करेंगे. इसके लिए एसीएमओ ने प्रशिक्षण में उपस्थित सभी लोगों को खुद तम्बाकू सेवन नहीं करने एवं आस पास के लोगों को इस पर जागरूक करने की शपथ दिलाई.

    कोरोना वायरस पर लोगो को जागरूक करने पर बल :
    प्रशिक्षण में एपिडेमियोलॉजिस्ट नीरज कुमार निराला ने उपस्थित सभी लोगों को हाल ही में आई खतरनाक वायरस कोरोना की भी जानकारी दी. उन्होंने बताया कि चीन से शुरू हुआ यह वायरस श्रीलंका, नेपाल आदि देशों में फैल रहा है. हमारे देश मे भी कुछ केसेस पाए गए हैं. इसके लिए सभी को इसके कारण व बचाव की जानकारी होना बहुत जरूरी है. इसके प्रमुख लक्षणों में अचानक बुखार आना, खांसी, उल्टी होना, सांस लेने में परेशानी होने, दस्त आदि है. इसके संक्रमण के कारण निमोनिया गंभीर रूप धारण कर लेता है और गुर्दा खराब हो जाता है जिससे मृत्यु भी हो सकता है. उन्होंने सभी एएनएम को अपने क्षेत्र में बाहर से आने वाले लोगों पर नज़र रखने एवं आस पास के लोगो को इसकी जानकारी देने कहा है. अगर किसी भी बाहरी व्यक्ति में इस तरह के लक्षण दिखाई दे तो इसकी सूचना तुरंत जिला में देने का आदेश दिया गया है.

    तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम (कोटपा) के तहत तय किया गया कानून :
    - सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान करने पर 200 रुपये की जुर्माना देय है (धारा - 4).
    - तम्बाकू पदार्थों के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष विज्ञापन पर 1 से 5 साल की कैद व 1000 से 5000 तक का जुर्माना देय है (धारा- 5).
    - 18 वर्ष से कम आयु वर्ग के अवयस्कों को तम्बाकू पदार्थ बेचने वालों को 200 रुपये जुर्माना लगाया जाता है (धारा- 6).
    - बिना चित्रित व पैकेट के 85% भाग पर मुख्य रूप से न छपे वैधानिक चेतावनी के तम्बाकू पदार्थ बेचने पर 2 से 5 साल की कैद व 1000 से 10000 तक जुर्माना लगाया जा सकता है (धारा- 7)


    कार्यक्रम में एसीएमओ डॉ एस के वर्मा, डीआईओ डॉ सुभाष चन्द्र पासवान, एनसीडी अधिकारी डॉ भी पी अग्रवाल, एपिडेमियोलॉजिस्ट नीरज कुमार निराला, आरबीएसके के जिला समन्वयक डॉ आर पी सिंह एवं जिला के सभी चिकित्सा अधिकारी और एएनएम उपस्थित रहे.

    विवरण: तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत दिया गया एक दिवसीय प्रशिक्षण - बच्चों में तम्बाकू सेवन रोकने के लिए स्कूलों में जागरूकता फैलाएगी आरबीएसके टीम - प्रशिक्षण में कोरोना वायरस के सम्बंध में भी दी गई जानकारी - बाहर से आने वाले लोगों पर एएनएम रखेंगी नज़र

    0 टिप्पणियाँ:

    टिप्पणी पोस्ट करें