गुरुवार, 26 दिसंबर 2019

Tagged Under: , ,

जेई पर होगा वार 9 माह से 15 साल तक के बच्चों को लगेगा टीका

लेखक: अपना समाचार दिनांक: दिसंबर 26, 2019
  • शेयर करे

  • जेई पर होगा वार, 9 माह से 15 साल तक के बच्चों को लगेगा टीका 
    • 3 फरवरी से 30 मार्च तक चलेगा अभियान 
    • राज्य के 9 जिलों में चलेगा अभियान 
    • अभियान के पूर्व जिला एवं प्रखंड स्तर पर होंगी गतिविधियाँ 

    पूर्णियां: जापानी इन्सेफ़लाईटिस (जेई) से बच्चों को बचाने के लिए टीकाकरण अभियान की शुरुआत होगी. 9 माह से 15 साल तक के बच्चों को जेई के टीके लगाये जाएंगे. यह अभियान 3 फरवरी से 30 मार्च तक राज्य के 9 जिलों में चलाया जाएगा.  इसको लेकर कार्यपालक निदेशक राज्य स्वास्थ्य समिति मनोज कुमार ने संबंधित जिलों के सिविल सर्जन एवं जिला पदाधिकारी को पत्र लिखकर इसके संबंध में विस्तार से दिशा-निर्देश दिया है. 

    राज्य के 9 जिलों में चलेगा अभियान: 
    जेई पर नियंत्रण के लिए राज्य के 9 जिलों में टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा. जिसमें कटिहार, किशनगंज, पूर्णिया, सहरसा, मधेपुरा, मधुबनी, मुंगेर, रोहतास एवं सुपौल जिले को शामिल किया गया है. 

    क्लस्टर वाइज होगा टीकाकरण: 
    पत्र के माध्यम से बताया गया है कि अभियान के दौरान 9 माह से 15 साल तक के बच्चों का जेई का टीकाकरण किया जाएगा. अभियान के दौरान शत-प्रतिशत चिन्हित बच्चों का टीकाकरण करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. इसको लेकर यह अभियान क्लस्टर वाइज चलाया जाएगा. इसके लिए जिला, प्रखंड एवं ग्राम स्तर पर विभिन्न प्रकार की गतिविधियों का भी आयोजन किया जाएगा. 

    विभिन्न विभागों की होगी सहभागिता: 
    अभियान को सफल बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ अन्य विभागों की भी सहभागिता होगी. जिसमें शिक्षा विभाग, जीविका, पंचायती राज विभाग, सूचना एवं जन-संपर्क विभाग, शहरी विकास विभाग, युवा कार्य एवं खेल विभाग, अल्पसंख्यक कल्याण विभाग, अनुसूचित जाति-जनजाति विभाग, गृह विभाग, रेल मंत्रालय, श्रम एवं नियोजन विभाग, भवन निर्माण विभाग के साथ अन्य सहयोगी संस्थान भी सहयोग करेंगे. 

    जिला स्तर पर आयोजित होंगी गतिविधियाँ: 
    अभियान के पूर्व जिला स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा. जिसमें सभी सहयोगी विभागों के प्रतिनिधि शामिल होंगे. इस दौरान जेई के संबंध में विस्तार से जानकारी दी जाएगी. आम लोगों को अभियान के दौरान उत्पन्न भ्रांतियों को दूर करने के लिए धर्म गुरुओं के साथ भी बैठक की जाएगी. अभियान को लेकर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला टास्क फ़ोर्स की बैठक आयोजित कर कार्यक्रम की समीक्षा एवं त्रुटियों को दूर करने करने के लिए सुधारात्मक कार्रवाई की जाएगी. अभियान के पूर्व जिला स्तरीय मीडिया संवेकेदीकरण के उद्देश्य से कार्यशाला का आयोजन होगा. प्रत्येक चक्र के दौरान संध्याकालीन समीक्षात्मक बैठक का आयोजन होगा. कार्यक्रम के सफल संचालन के लिए सूक्ष्म कार्ययोजना सहित वैक्सीन, लोजिस्टिक, मानव संसाधन एवं प्रशिक्षण आदि के संबंध में पूरी तैयारी की जाएगी. 

    प्रखंड स्तर पर भी होंगी तैयारियां:  
    अभियान के पूर्व प्रखंड स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा. जिसमें सभी सहयोगी विभागों के प्रतिनिधि शामिल होंगे. अभियान एक पूर्व सभी संबंधित अधिकारीयों को सूक्ष्म कार्ययोजना, कम्युनिकेशन प्लान एवं रिपोर्टिंग संबंधित प्रशिक्षण दिया जाएगा. सभी शिक्षण संस्थानों में टीकाकरण के दिन जरुरी सहयोग के लिए प्रशिक्षण प्रदान कराया जाएगा. कार्यक्रम के दौरान सपोर्टिव सुपरविजन सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी प्रखंडों की होगी. साथ ही प्रखंड स्तर पर आंगनबाड़ी, आशा, अन्य मोबिलाइजर ,जन-प्रतिनिधियों एवं विकास मित्रों को टीकाकरण की जानकारी एवं उत्प्रेरण के लिए प्रशिक्षण प्रदान कराया जाएगा.
    विवरण: जेई पर होगा वार, 9 माह से 15 साल तक के बच्चों को लगेगा टीका • 3 फरवरी से 30 मार्च तक चलेगा अभियान • राज्य के 9 जिलों में चलेगा अभियान • अभियान के पूर्व जिला एवं प्रखंड स्तर पर होंगी गतिविधियाँ

    0 टिप्पणियाँ:

    टिप्पणी पोस्ट करें