गुरुवार, 21 नवंबर 2019

Tagged Under: ,

प्रधान सचिव स्वास्थ्य विभाग संजय कुमार ने गुरुवार को राज्य स्वास्थ्य समिति से परिवार नियोजन पर जागरूकता फ़ैलाने के लिए सारथी जागरूकता रथ’ को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया

लेखक: अपना समाचार दिनांक: नवंबर 21, 2019
  • शेयर करे
  • परिवार नियोजन में पुरुषों की भागीदारी पर व्यापक चर्चा एवं जागरूकता की जरुरत :  संजय कुमार
    सारथी जागरूकता रथ 37 जिलों में फैलाएगी जागरूकता
    निःशुल्क परिवार नियोजन साधनों का होगा वितरण
    21 नवम्बर से 4 दिसम्बर तक पुरुष नसबंदी पखवाड़ा
    पटना : परिवार नियोजन में पुरुषों की भागीदारी को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से 21 नवम्बर से 04 दिसंबर तक राज्य भर में “पुरुष नसबंदी पखवाडा’’ का आयोजन किया जा रहा है . इसी क्रम में प्रधान सचिव स्वास्थ्य विभाग संजय कुमार ने गुरुवार को राज्य स्वास्थ्य समिति से परिवार नियोजन पर जागरूकता फ़ैलाने के लिए ‘सारथी जागरूकता रथ’ को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया.
    इस अवसर पर राज्य स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया राज्य की प्रजनन दर 3.2 है, जो की देश में सर्वाधिक है. जनसँख्या स्थिरीकरण के लिए इसका 2.1 प्रतिशत पर आना जरुरी है. उन्होंने कहा जहाँ राज्य में 98 प्रतिशत महिलाएं परिवार नियोजन के साधन अपना रही हैं, वहाँ मात्र 2 प्रतिशत पुरुष ही परिवार नियोजन में भागीदारी कर रहे है. उन्होंने कहा की सभी के सहयोग से परिवार नियोजन कार्यक्रम में पुरुषों की सहभागिता बढ़ाने के लिए सभी स्तर पर व्यापक चर्चा की जरुरत है ताकि समुदाय में इसके लिए जागरूकता फैले. इसके लिए उन्होंने मीडिया कर्मियों से भी जागरूकता फ़ैलाने तथा चर्चा हेतु सहयोग की अपील की.
    राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने बताया सारथी वाहन के जरिए इस पखवाड़े के दौरान पटना छोड़कर राज्य के अन्य 37 जिलों में घूम-घूम कर परिवार नियोजन के उद्देश्य, लाभ एवं परिवार नियोजन सेवा के अंतर्गत दी जाने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी दी जाएगी. चलचित्र एवं बैनर के माध्यम से आम जनों को परिवार नियोजन की जरूरत पर जानकारी दी जाएगी. जिसमें स्वस्थ माँ एवं तंदुरुस्त बच्चा हेतु सही उम्र में शादी, पहला बच्चा शादी के कम से कम दो साल बाद, दो बच्चों के बीच कम से कम तीन साल का अंतर, बच्चे दो ही जैसे विषयों पर परामर्श देते हुए गर्भनिरोधक उपाय अपनाने को बढ़ावा दिया जाएगा.
    दो चरणों में चलेगा पखवाड़ा: यह पखवाड़ा दो चरणों में चलाया जायेगा। 21 नवम्बर से 27 दिसम्बर तक पहला चरण की शुरूआत की गयी। जिसमें लाभार्थियों को परिवार नियोजन पर जानकारी दी जा रही है. 28 नवम्बर से 4 दिसम्बर तक दूसरा चरण चलेगा, जिसमें विभिन्न आयोजनों के माध्यम से लोगों को पुरुष नसबंदी सेवा प्रदान की जाएगी.
    यह आधुनिक सुविधाएं होंगी उपलब्ध :
    सारथी जागरूकता रथ में जीपीएस की सुविधा उपलब्ध होगी. लेड स्क्रीन एवं फ्लेक्स बैनर के माध्यम से परिवार नियोजन सेवाओं के बारे में प्रचार-प्रसार
    परिवार नियोजन के उपायों के संदर्भ में लिफ़लेट का वितरण
    अस्थायी सेवा के तहत गर्भनिरोधकों जैसे कंडोम एवं गर्भ निरोधक गोलियों( माला-एन, छाया एवं आपातकालीन गर्भनिरोधक गोली) का वितरण
    स्थायी सेवा यथा महिला नसबंदी, पुरुष नसबंदी, प्रसवोपरांत नसबंदी के लिए इच्छुक लाभार्थी का पंजीयन के साथ प्रसवोपरांत कॉपर-टी संस्थापन एवं गर्भनिरोधक सुई-अंतरा लगवाने हेतु पंजीयन की सुविधा
    आमजनों को जानकारी उपलब्ध कराने हेतु परामर्श की सुविधा
    इस अवसर राज्य स्वास्थ्य समिति के अपर कार्यपालक करुना कुमारी, राज्य स्वास्थ्य समिति के प्रशासी पदाधिकारी खालिद अरशद, उपसचिव सह प्रभारी, राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी परिवार नियोजन डा. मो.सज्जाद के साथ अन्य स्वास्थ्य पदाधिकारी उपस्थित थे.

    संवादक: अमन
    विवरण: परिवार नियोजन में पुरुषों की भागीदारी पर व्यापक चर्चा एवं जागरूकता की जरुरत : संजय कुमार

    0 टिप्पणियाँ:

    टिप्पणी पोस्ट करें