मंगलवार, 19 नवंबर 2019

Tagged Under:

कंगारू मदर केयर’ कमजोर नवजातों के लिए संजीवनी

लेखक: अपना समाचार दिनांक: नवंबर 19, 2019
  • शेयर करे
  • एचबीएनसी कार्य



    कंगारू मदर केयर’ कमजोर नवजातों के लिए संजीवनी
    - 2 किलोग्राम से कम वजन के नवजातों के लिए केएमसी जरुरी
    - हाइपोथर्मिया से बच्चों को सुरक्षित रखने में बेहद कारगर
    - शरीर की ऊष्मा से नवजात को मिल सकता है जीवनदान



    पूर्णियाँ/ 18 नवम्बर:

    नवजात को अधिक ठंडी या गर्मी के कारण स्वास्थ्य जटिलताएं बढ़ने का ख़तरा रहता है. जिसे चिकित्सकीय भाषा में हाइपोथर्मिया कहा जाता है. सही समय पर हाइपोथर्मिया के प्रबंधन नहीं किए जाने पर नवजात की जान भी जा सकती है. लेकिन इस गंभीर समस्या का निदान आसानी से घर पर भी किया जा सकता है. जिसके लिए ‘कंगारू मदर केयर’(केएमसी) काफ़ी असरदार साबित हो सकता है. ‘कंगारू मदर केयर’ के तहत माँ या घर का कोई भी सदस्य नवजात को अपनी छाती से चिपकाकर नवजात को शरीर की गर्मी प्रदान करते हैं. इससे नवजात को हाइपोथर्मिया से उबरने में सहायता मिलती है.

    2 किलोग्राम से कम वजन के बच्चों के लिए आवश्यक:
    राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी बाल स्वास्थ्य डॉ. वीपी राय ने बताया 2 किलोग्राम से कम वजन के बच्चों को कमजोर नवजात की श्रेणी में रखा जाता है. जिन्हें सघन देखभाल की जरूरत होती है. कमजोर बच्चों के उचित देखभाल के लिए सभी जिलों में ‘ कमजोर नवजात देखभाल’ कार्यक्रम भी चलाया जा रहा है. इस कार्यक्रम के तहत आशा एवं एएनएम चिन्हित कमजोर नवजातों को उनके घर पर ही विशेष देखभाल प्रदान करती है. कमजोर नवजातों के उचित देखभाल की कड़ी में ‘कंगारू मदर केयर’ काफ़ी असरदार प्रक्रिया होती है. इससे नवजात को हाइपोथर्मिया से बचाव के साथ नवजात के वजन में वृद्धि होती है. साथ ही इससे उनके बेहतर शारीरिक विकास में भी सहयोग मिलता है.

    ‘कंगारू मदर केयर’ के दौरान इन बातों का रखें ध्यान :
    ‘कंगारू मदर केयर’ माँ के साथ घर का कोई भी सदस्य प्रदान कर सकता है. केयर प्रदान करने वाले व्यक्ति को केएमसी से पूर्व  हर बार अपने छाती को साफ़ करना जरुरी है
    नवजात के मुँह को छाती के मध्य स्तनों के बीच लिटाएँ एवं  यह सुनिश्चित करें कि उसका शरीर केएम्सी. देने वाले के पेट से चिपका हो
    नवजात के शरीर पर टोपी, हाथों और पैरों में दस्ताने व पैरों में मोज़े व लंगोटी के अलावा शरीर पर कोई वस्त्र न हो
    बच्चे का सर इस प्रकार से ढँका जाए कि उसे सांस लेने में कठिनाई ना हो
    केएमसी देने वाला व्यक्ति ऊपर से मौसम के अनुसार कोई कपडा अवश्य ढँक ले
    केएमसी के फ़ायदे:
    केएमसी देने से माँ की कन्हर(प्लेसेंटा)जल्दी बाहर आ जाता है
    बच्चे को सीने से लगाने से माँ का दूध जल्दी उतरता है

    केएमसी से नवजात शिशु को क्या फायदा होगा :
    जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ब्रजेश कुमार ने बताया कि केएमसी से नवजात शिशुओं को बहुत फायदा होता है. वह स्वयं को सुरक्षित महसूस करता है. इससे शिशु का वजन बढ़ता है और शारीरिक विकास बेहतर हो जाता है. इससे माँ एवं बच्चे के बीच मानसिक एवं भावनात्मक जुड़ाव बढ़ता है.

    इसलिए जरुरी है कंगारू मदर केयर: डबल्यूएचओ के अनुसार, जन्म के समय 2 किलोग्राम या उससे कम वजन वाले नवजात शिशुओं को निरंतर रूप से कंगारू मदर केयर प्रदान किया जाना चाहिए. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हाल में ही प्रतिवर्ष सबसे अधिक अपरिपक्व जन्म( 37 सप्ताह से पूर्व शिशु जन्म) वाले 10 देशों की सूची जारी की है. जिसमें भारत 35.19 लाख संख्या के साथ सूची में सबसे ऊपर है. विश्व स्वास्थ्य संगठन का मानना है कि सभी जन्मों में से 10 से 15 प्रतिशत जन्म अपरिपक्व होते हैं. इस अनुसार बिहार में प्रत्येक वर्ष 28.65 लाख जीवित जन्म( स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार) में से लगभग 3.80 लाख बच्चे जन्म के समय अपरिपक्व होते हैं. अपरिपक्व या समय से पूर्व जन्में बच्चों में जटिलताओं से बचाव के लिए कंगारू मदर केयर बेहद कारगर साबित हो सकता है.

    संवादक: अमन
    विवरण: ‘कंगारू मदर केयर’ कमजोर नवजातों के लिए संजीवनी

    0 टिप्पणियाँ:

    टिप्पणी पोस्ट करें