गुरुवार, 10 अक्तूबर 2019

Tagged Under: ,

नितीश की सरकार में भी विधालय की जर्जर भवने

लेखक: अपना समाचार दिनांक: अक्तूबर 10, 2019
  • शेयर करे

  • वैशाली - जंदाहा प्रखण्ड के उत्क्रमित मध्य विधालय चकमिल्की जो गांव चकशाहवली में अवस्थित है , जो काफ़ी जर्जर हो चूका है कभी भी अप्रिय घटना होकर बच्चे सब की जान जा सकती है , इसकी जानकारी पूरी विभाग को भी है फिर भी कान में सरसो का तेल डालकर सोया हुआ हैं ! सन्न 1970 के पूर्व से चल रहा यह विधालय सन्न 1970 में महामहिम राज्यपाल बिहार सरकार के नाम से 5 कट्ठा ज़मीन गोपी हजारी ने दो फरिक मिलकर केवाला किया था . जो रामप्रसाद हजारी के पुत्र जीवस पासवान की तरफ से कोई आपत्ति नहीं हैं , पर दुशरा फरीक अब जमीन निजी होने का दावा करता है . विधालय भवन बनने से रोकता है . प्रखण्ड पदाधिकारी से लेकर जिला के पदाधिकारी तक इस नौटंकी को कई सालो से देख रहे हैं . इस विधालय में 300 के लगभग छात्रों की संख्या है , जो भवन , शौचालय , के नहीं होने के चलते लगभग बच्चे अपने वर्ग में अनुपस्थिति रहते हैं ! वही ग्रामीणों का कहना है की इस सरकार में स्कूल नहीं बना तो आगामी विधानसभा में जवाब दे देंगे।

    संवादक: संतोष कुशवाहा

    इसे भी पढ़े: आवारा सांढ़ ने किया कपिल कुमार पर हमला

    विवरण: जंदाहा प्रखण्ड के उत्क्रमित मध्य विधालय चकमिल्की जो गांव चकशाहवली में अवस्थित है , जो काफ़ी जर्जर हो चूका है कभी भी अप्रिय घटना होकर बच्चे सब की जान जा सकती है

    0 टिप्पणियाँ:

    टिप्पणी पोस्ट करें