शनिवार, 19 अक्तूबर 2019

Tagged Under: ,

आंगनवाड़ी केन्द्रों में मनाया गया अन्नप्राशन दिवस

लेखक: Brajesh Kumar Singh दिनांक: अक्तूबर 19, 2019
  • शेयर करे


    • सही व नियमित खान-पान बच्चों के लिए बेहद जरूरी
    • आंगनवाड़ी केन्द्रों में मनाया गया अन्नप्राशन दिवस
    • महिलाओं को दी गई पोषण संबंधी जानकारी


    पूर्णियाँ :बच्चों को बेहतर पोषण प्रदान कराने के उद्देश्य से जिले के सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों में अन्नप्राशन दिवस मनाया गया। जिसमें 6 माह से ऊपर के बच्चों को अनुपूरक आहार का सेवन कराया गया। पोषक क्षेत्र के शिशुओ को खीर खिलाकर इसकी शुरुआत की गयी तथा धात्री माताओं को भी पूरक पोषाहार के विषय में एवं साफ़- सफाई के बारे में जानकारी दी गयी. 

    पोषण की दी गई विशेष जानकारी : 
    अन्नप्राशन के दौरान क्षेत्र की सभी गर्भवती महिलाओं को पोषण की जानकारी दी। इसके अलावा गर्भ के समय की खान-पान और परहेज  के बारे में भी महिलाओं को बताया गया। जिला मुख्यालय की प्रभात कॉलोनी में केंद्र संख्या 02 केंद्र कोड 38 की सेविका किरण देवी ने गर्भवती महिलाओं को बच्चे के जन्म के समय की तैयारी की भी जानकारी दी, जैसे कि बच्चे को जन्म के 1 घंटे के भीतर माँ का गाढा पीला दूध पिलाना चाहिए और 6 माह तक बच्चों को केवल  माँ का दूध हीं देना चाहिए|

    ऊपरी आहार की जरूरत एवं फायदे की दी गई जानकारी :
    इस अवसर पर 6 से 2 वर्ष तक के बच्चों की माताओं को बुलाकर बच्चों के लिए 6 माह के बाद उपरी आहार की जरूरत के विषय में जानकारी दी गयी। सेविका  ने बताया कि 6 माह से 9 माह के शिशु को दिन भर में 200 ग्राम सुपाच्य मसला हुआ खाना, 9 से 12 माह में 300 ग्राम मसला हुआ ठोस खाना, 12 से 24 माह में 500 ग्राम तक खाना खिलाऐं। इसके अलावा अभिभावकों को बच्चों के दैनिक आहार में हरी पत्तीदार सब्जी और पीले नारंगी फल को शामिल करने की बात बताई गयी।
    परिवार नियोजन संबंधित दी गई जानकारी :
    इस अवसर पर सेविका ने अपने क्षेत्र की महिलाओं एवं पुरुषों को परिवार नियोजन संबंधी जानकारियां भी दी। उन्होंने लोगों को बताया छोटा परिवार सुखी परिवार होता है। सभी महिलाओं को परिवार नियोजन के साधन और उनसे होने वाले फायदे के संबंध में बताया गया। पुरुषों के लिए पुरुष नसबंदी एवं अस्पताल में लगे कंडोम बॉक्स की जानकारी दी गई। महिलाओं को अंतरा छाया जैसे टीकाकरण की जानकारी दी गई जो परिवार नियोजन में सहायक होती है।
    साफ़-सफाई एवं स्वच्छता पर दिया गया जोर :
    दिवस के अवसर पर सेविका ने लोगों को साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने कहा उन्होंने बताया कि बड़ी बड़ी बीमारियां हमारे छोटे-छोटे गलतियों के कारण ही होती है जैसे नाखूनों में गंदगी का लगा होना पैर हाथ में गंदगी का होना इत्यादि इसलिए उन्होंने घर में आने पर अच्छे से हाथ पैर धो कर अंदर आने के लिए लोगों को कहा। इसके अलावा खाने से पहले एवं उसके बाद हाथ सफाई पर भी विशेष ध्यान देने की बात की।

    संवादक: अमन

    इसे भी पढ़े: संक्रामक रोगों तथा डायरिया से बचाव को लेकर एएनएम और आशा करेंगी जागरूक

    विवरण: 6 माह से ऊपर के बच्चों को अनुपूरक आहार का सेवन कराया गया। पोषक क्षेत्र के शिशुओ को खीर खिलाकर इसकी शुरुआत की गयी तथा धात्री माताओं को भी पूरक पोषाहार के विषय में एवं साफ़- सफाई के बारे में जानकारी दी गयी.

    0 टिप्पणियाँ:

    टिप्पणी पोस्ट करें