सोमवार, 9 सितंबर 2019

Tagged Under: , , , ,

आंगनवाड़ी केन्द्रों पर हुई गोदभराई की रस्म

लेखक: अपना समाचार दिनांक: सितंबर 09, 2019
  • शेयर करे

  • गर्भवती महिलाओं के बेहतर पोषण पर सरकार विशेष ध्यान दे रही है. इसके लिए प्रत्येक माह की 7
    तारीख को आंगनवाड़ी केन्द्रों पर सात से नौ महीने की गर्भवती महिलाओं की गोद भराई करायी जाती
    है. इसी क्रम में शुक्रवार को जिले के सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों पर गोद भराई कार्यक्रम का आयोजन
    किया गया एवं महिलाओं को पोषक आहार वितरण के साथ बेहतर पोषण की जानकारी दी गयी. 

    आखिरी दिनों में पोषण का ख्याल : जिले के ततमा टोली पुणिया सदर के अंतर्गत आंगनवाड़ी केन्द्र की
    सेविका मघु देवी ने बताया कि गोदभराई का मुख्य उद्देश्य गर्भावस्था के आखिरी दिनों में बेहतर पोषण
    की जरूरत के विषय में गर्भवतियों को अवगत कराना है. गर्भावस्था के आखिरी दिनों में अधिक पोषण
    की जरूरत होती है.  माता एवं गर्भस्थ शिशु के बेहतर स्वास्थ्य एवं प्रसव के दौरान होने वाली संभावित
    जटिलताओं में कमी लाने लाने के लिए गर्भवती के साथ परिवार के लोगों को भी अच्छे पोषण पर ध्यान
    देना चाहिए. इस दौरान आहार में प्रोटीन, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट के साथ वसा की भी मात्रा होना
    जरुरी होता है. इसके लिए समेकित बाल विकास योजना के अंतर्गत आंगनवाडी केन्द्रों में गर्भवती
    महिलाओं को साप्ताहिक पुष्टाहार भी वितरित किया जाता है. इसके साथ महिलाएं अपने घर में आसानी
    से उपलब्ध भोज्य पदार्थों के सेवन से भी अपने पोषण का ख्याल आसानी से रख सकती हैं, बेहतर पोषण
    एक स्वस्थ बच्चे के जन्म में सहायक होने के साथ गर्भवती महिलाओं में मातृ मृत्यु दर में कमी भी लाता है.

    हर्षोल्लास के साथ हुई गोद भराई : शहर और ग्रामीण क्षेत्रों के केन्द्रो पर गर्भवती महिलओं को लाल चुनरी
    ओढा कर एवं माथे पर लाल टीका लगा कार्यक्रम की शुरुआत हुई. महिलओं को विभिन्न व्यंजनों में
    शामिल सतरंगी फल, हरी सब्जियाँ एवं अन्य पोषक आहार दिए गए. साथ ही गर्भावस्था के दौरान पोषक
    आहार सेवन के विषय में गर्भवतियों को भी जागरूक किया गया. गर्भवती महिलाओं को अपने आहार में
    विविधता लाने की सलाह दी गयी. आहार में दाल, बीन, दूध एवं दू जिले ध से निर्मित खाद्य पदार्थ, हरी
    साग-सब्जी, पीले फ़ल. मीट एवं मछली शामिल करने की बात बताई गयी. नियमित रूप से 4 प्रसव पूर्व
    जाँच, मातृ एवं शिशु सुरक्षा कार्ड में वजन का पंजीकरण के साथ नियमित रूप से प्रतिदिन आयरन की
    एक गोली एवं कैल्शियम की दो गोली खाने की सलाह दी गयी. इस मौके पर आँगनवाड़ी केंद्र की
    सहायिका साथ अन्य ग्रामीण उपस्थित थे. 


    वैशाली --जंदाहा प्रखंड के चकशाहवली ,केंद्र संख्या 152 पर गर्ववती महिलाओ की गोदभराई

    छवि स्रोत:  संतोष कुशवाहा . जंदाहा

    आंगनवाड़ी केंद्र संख्या 152 की सेविका विभा कुमारी ने इसी वार्ड की सोनी कुमारी पति - पंकज कुमार की पत्नी को गोदभराई की जिसमे बहुत महिलाये उपस्थित थी .

    -----------------------------------------------------------------------
    • आंगनवाड़ी केन्द्रों पर हुई गोदभराई की रस्म
    • प्रतिदिन आयरन एवं कैल्शियम की गोली जरुरी
    • गर्भवती माताओं के लिए आहार में विविधता जरुरी
    ------------------------------------------------------------------------------------
    स्रोत : अमन 

    0 टिप्पणियाँ:

    टिप्पणी पोस्ट करें