शनिवार, 14 सितंबर 2019

Tagged Under: ,

हिंदी को राजभाषा के रूप में अपनाने वाला पहला राज्य बिहार: सुशील मोदी

लेखक: अपना समाचार दिनांक: सितंबर 14, 2019
  • शेयर करे
  • छवि स्रोत : आजतक 
    उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि हिंदी को राजभाषा के रूप में स्वीकार करने वाला पहला राज्य  बिहार रहा है। और जिस तेजी से लोग हिंदी पे धयान दे रहे है आने वाले विगत वर्षो में अच्छा रिजल्ट आएगा ।

    यह हर्ष का विषय है कि देश की दस प्रमुख भाषाओं में केवल हिंदी बोलने वालों की संख्या सबसे ज्यादा 19  फीसदी तक बढ़ी। हिंदी इंटरनेट पर भी सबसे तेज 94 फीसदी की दर से बढ़ी है।

    ट्वीट कर उपमुख्यमंत्री ने कहा कि गुजराती मातृ भाषा वाले  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिंदी को जिस तरह हृदय से अपनाया और विदेशी मंचों पर भी इसी भाषा में संवाद किया, वह सबके लिए प्रेरणादायक है। उनके नेतृत्व में भारत का दुनिया में महत्व बढ़ा, जिससे विदेशों में भी हिंदी की स्वीकार्यता बढ़ी। हिंदी दिवस पर उन सब लोगों को बधाई, जो अपनी मातृभाषा का आदर करते हुए राष्ट्रभाषा हिंदी का उपयोग करने में गर्व करते हैं।


    इसे भी पढ़े: संजय जायसवाल बने बिहार भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष

    विवरण: उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि हिंदी को राजभाषा के रूप में स्वीकार करने वाला पहला राज्य बिहार रहा है। और जिस तेजी से लोग हिंदी पे धयान दे रहे है आने वाले विगत वर्षो में अच्छा रिजल्ट आएगा ।

    0 टिप्पणियाँ:

    टिप्पणी पोस्ट करें